Geography Editorials in Hindi

Geography Editorials
Geography is the study of places and the relationships between people and their environments. Geographers explore both the physical properties of Earth’s surface and the human societies spread across it.: As Per National Geographic Data.
It is included in the General Studies paper in Prelims as well as GS Paper 1 in UPSC CS(Main) examination. In the UPSC scheme of the syllabus, Geography establishes the relevance of the existence of humans, the elements that are conducive to life, and the elements that are not conducive to human life.
Questions and Essays from Geography are asked very commonly in UPSC-Exams, This section features Geography Editorials in Hindi language exclusively from the Indian geographical panorama because these are only relevant to various Competitive Exams like UPSC-IAS, SSC, and other State Civil Services Examinations.
The featured articles or editorials on the Geography Editorials in Hindi page are taken from various prestigious resources like The Hindu, Indian Express, Times of India, India Today, Down to Earth, etc.
These editorials are translated with a high level of accuracy and are featured on this page of the Editorials in Hindi website. Students must follow this page regularly for Geography articles.
Apart from the aspiring students, Environmental Scholars, News Readers, and Content Writers should also visit this page regularly to stay updated.
Geography Editorials

Latest Editorials on Geography in Hindi

Geography Editorials
अंधाधुंध होड़: जोशीमठ के दरकने का मामला
Reckless spree: Joshimath issue अधिकारियों को विज्ञान और खानों एवं बांधों के पास रहने वाले लोगों की बात सुननी चाहिए जोशीमठ में जमीन का धंसना एक ऐसी भूवैज्ञानिक आपदा का प्रतीक बन गया है, जो हकीकत में देश भर में संसाधनों के दोहन की कई बड़ी परियोजनाओं के आसपास जाहिर हुआ है। झरिया, भुरकुंडा, कपासरा, रानीगंज और तलचर के कोयला...
Geography Editorials
खतरे की घंटी: जोशीमठ डूब रहा है
Alarm bells in Joshimath पूरे शहर में दरारें, 500 से अधिक घर प्रभावित समाचार में: बद्रीनाथ और हेमकुंड साहिब की यात्रा करने वाले पर्यटकों के लिए एक प्रमुख पारगमन बिंदु जोशीमठ में भूमि धंसने, सड़कों और 560 से अधिक घरों के कारण दरारें आ गईं, जिससे स्थानीय आबादी में दहशत और विरोध पैदा हो गया। अधिकारियों ने कहा कि आपदा प्रबंधन...
Geography Editorials
भारत की पूर्वी शाखा को मजबूत बनाना: प्रमुख बुनियादी ढांचे के उन्नयन
Strengthening India’s Eastern Arm एक प्रमुख बुनियादी ढांचे के उन्नयन के साथ क्षेत्र को बदलना ख़बरों में: पश्चिम बंगाल राज्य और पूर्वी भारत को हाल ही में हावड़ा को न्यू जलपाईगुड़ी से जोड़ने वाली अपनी पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन मिली है, जो कोलकाता और सिलीगुड़ी के बीच यात्रा के समय को काफी कम कर देगी – पूर्वोत्तर...
Geography Editorials
खराब मिट्टी प्रबंधन खाद्य सुरक्षा को नष्ट कर देगा
Poor soil management will erode food security मृदा क्षरण के मानव और पारिस्थितिक तंत्र के स्वास्थ्य पर अपूरणीय परिणाम हो सकते हैं, जिन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है स्वस्थ मिट्टी हमारे अस्तित्व के लिए आवश्यक है। वे भूजल स्तर को बनाए रखने के लिए हमारे पोषण और जल रिसाव दोनों को बढ़ाने के लिए स्वस्थ पौधों के विकास का समर्थन...
Science and Technology Editorials
आशा के बीज: आनुवंशिक इंजीनियरिंग तकनीकों द्वारा विकसित धारा सरसों हाइब्रिड-11
Seeds of hope वैज्ञानिक सहमति से किसानों और उपभोक्ताओं के लिए उत्पाद की उपलब्धता तय होनी चाहिए वर्षों तक अधर में रहने के बाद, भारतीय वैज्ञानिकों और सार्वजनिक निधियों द्वारा आनुवंशिक इंजीनियरिंग तकनीकों का उपयोग करके विकसित की गई एक किस्म डीएमएच-11, या धारा मस्टर्ड हाइब्रिड-11 के आसपास आशावाद का उछाल आया है। शीर्ष नियामक...
Geography Editorials
हर बूंद मायने रखती है: जल जीवन मिशन का संदर्भ
Every drop counts जल जीवन मिशन के तहत बनाया गया बुनियादी ढांचा टिकाऊ होना चाहिए वर्ष 2024 तक हर ग्रामीण घर में पाइप के जरिए पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करना नरेन्द्र  मोदी सरकार के सबसे महत्वपूर्ण वादों में से एक है। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की अगुवाई में जल जीवन मिशन के तहत अब 10.2 करोड़ ग्रामीण परिवार या लगभग 53 प्रतिशत...
International Relations Editorials
पनबिजली के जरिए भारत-नेपाल संबंधों में ऊर्जा लाना
Energising India-Nepal ties, the hydropower way सेती नदी परियोजनाओं में भारत-नेपाल के बीच संबंधों को बढ़ाने की शक्ति है 18 अगस्त, 2022 को, निवेश बोर्ड नेपाल ने कुल 1,200 मेगावाट की पश्चिम-सेती और सेती नदी (SR 6) परियोजनाओं को विकसित करने के लिए भारत के नेशनल हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कॉर्पोरेशन (NHPC) लिमिटेड के साथ एक समझौता...
Economics Editorial
Reaping the demographic dividend of India
जनसांख्यिकीय लाभांश का लाभ उठाना भारत को गुणवत्तापूर्ण स्कूल और उच्च शिक्षा के साथ-साथ स्वास्थ्य देखभाल में निवेश करने की आवश्यकता है संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट, वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रॉस्पेक्ट्स 2022, का अनुमान है कि दुनिया की आबादी इस साल आठ अरब तक पहुंच जाएगी और 2050 में 9.8 बिलियन तक बढ़ जाएगी। भारत के लिए तात्कालिक रुचि...
1 2
अंधाधुंध होड़: जोशीमठ के दरकने का मामला
Reckless spree: Joshimath issue अधिकारियों को विज्ञान और खानों एवं बांधों के पास रहने वाले लोगों की बात सुननी चाहिए जोशीमठ में जमीन का धंसना एक ऐसी भूवैज्ञानिक आपदा का प्रतीक बन गया है, जो हकीकत में देश भर में संसाधनों के दोहन की कई बड़ी परियोजनाओं के आसपास जाहिर हुआ है। झरिया, भुरकुंडा, कपासरा, रानीगंज और तलचर के कोयला...
खतरे की घंटी: जोशीमठ डूब रहा है
Alarm bells in Joshimath पूरे शहर में दरारें, 500 से अधिक घर प्रभावित समाचार में: बद्रीनाथ और हेमकुंड साहिब की यात्रा करने वाले पर्यटकों के लिए एक प्रमुख पारगमन बिंदु जोशीमठ में भूमि धंसने, सड़कों और 560 से अधिक घरों के कारण दरारें आ गईं, जिससे स्थानीय आबादी में दहशत और विरोध पैदा हो गया। अधिकारियों ने कहा कि आपदा प्रबंधन...
भारत की पूर्वी शाखा को मजबूत बनाना: प्रमुख बुनियादी ढांचे के उन्नयन
Strengthening India’s Eastern Arm एक प्रमुख बुनियादी ढांचे के उन्नयन के साथ क्षेत्र को बदलना ख़बरों में: पश्चिम बंगाल राज्य और पूर्वी भारत को हाल ही में हावड़ा को न्यू जलपाईगुड़ी से जोड़ने वाली अपनी पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन मिली है, जो कोलकाता और सिलीगुड़ी के बीच यात्रा के समय को काफी कम कर देगी – पूर्वोत्तर...
खराब मिट्टी प्रबंधन खाद्य सुरक्षा को नष्ट कर देगा
Poor soil management will erode food security मृदा क्षरण के मानव और पारिस्थितिक तंत्र के स्वास्थ्य पर अपूरणीय परिणाम हो सकते हैं, जिन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है स्वस्थ मिट्टी हमारे अस्तित्व के लिए आवश्यक है। वे भूजल स्तर को बनाए रखने के लिए हमारे पोषण और जल रिसाव दोनों को बढ़ाने के लिए स्वस्थ पौधों के विकास का समर्थन...
आशा के बीज: आनुवंशिक इंजीनियरिंग तकनीकों द्वारा विकसित धारा सरसों हाइब्रिड-11
Seeds of hope वैज्ञानिक सहमति से किसानों और उपभोक्ताओं के लिए उत्पाद की उपलब्धता तय होनी चाहिए वर्षों तक अधर में रहने के बाद, भारतीय वैज्ञानिकों और सार्वजनिक निधियों द्वारा आनुवंशिक इंजीनियरिंग तकनीकों का उपयोग करके विकसित की गई एक किस्म डीएमएच-11, या धारा मस्टर्ड हाइब्रिड-11 के आसपास आशावाद का उछाल आया है। शीर्ष नियामक...
हर बूंद मायने रखती है: जल जीवन मिशन का संदर्भ
Every drop counts जल जीवन मिशन के तहत बनाया गया बुनियादी ढांचा टिकाऊ होना चाहिए वर्ष 2024 तक हर ग्रामीण घर में पाइप के जरिए पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करना नरेन्द्र  मोदी सरकार के सबसे महत्वपूर्ण वादों में से एक है। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की अगुवाई में जल जीवन मिशन के तहत अब 10.2 करोड़ ग्रामीण परिवार या लगभग 53 प्रतिशत...
पनबिजली के जरिए भारत-नेपाल संबंधों में ऊर्जा लाना
Energising India-Nepal ties, the hydropower way सेती नदी परियोजनाओं में भारत-नेपाल के बीच संबंधों को बढ़ाने की शक्ति है 18 अगस्त, 2022 को, निवेश बोर्ड नेपाल ने कुल 1,200 मेगावाट की पश्चिम-सेती और सेती नदी (SR 6) परियोजनाओं को विकसित करने के लिए भारत के नेशनल हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर कॉर्पोरेशन (NHPC) लिमिटेड के साथ एक समझौता...
Reaping the demographic dividend of India
जनसांख्यिकीय लाभांश का लाभ उठाना भारत को गुणवत्तापूर्ण स्कूल और उच्च शिक्षा के साथ-साथ स्वास्थ्य देखभाल में निवेश करने की आवश्यकता है संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट, वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रॉस्पेक्ट्स 2022, का अनुमान है कि दुनिया की आबादी इस साल आठ अरब तक पहुंच जाएगी और 2050 में 9.8 बिलियन तक बढ़ जाएगी। भारत के लिए तात्कालिक रुचि...
1 2