Site icon Editorials Hindi

Plant Based Meat

Science and Technology Current Affairs

Current Affairs:

क्रिकेटर एम एस धोनी ने Plant Based Meat स्टार्ट-अप ‘शाका हैरी / Shaka Harry’ में एक अज्ञात इक्विटी हिस्सेदारी खरीदी।

Plant Based Meat के बारे में

  • यह उन उत्पादों को संदर्भित करता है जो जानवरों की तरह दिखने, सूंघने और चखने वाले बायो-मिमिक या जानवरों से प्राप्त मांस की नकल होती है।
    • अन्य पौधों पर आधारित उत्पाद समुद्री भोजन, अंडे और दूध हैं जो जैव-नकल या जानवरों से प्राप्त मूल उत्पादों की नकल करते हैं।
  • यह शाकाहारी या शाकाहारी सामग्री जैसे सोया, गेहूं लस, मटर प्रोटीन या मायको-प्रोटीन से बना है।
  • ग्राउंड बीफ की तुलना में कम संतृप्त वसा होने पर इसे फाइबर, फोलेट और आयरन का अच्छा स्रोत पाया गया।

Plant Based Meat / पौधे आधारित मांस का महत्व

  • शाकाहारियों और धार्मिक और सांस्कृतिक आहार कानूनों का पालन करने वाले लोगों द्वारा आहार प्रोटीन के स्रोत के रूप में इसका सेवन किया जाता है।
  • मांसाहारियों के बीच भी इसकी मांग बढ़ी है, जो ग्रीनहाउस गैस उत्पादन, पानी और भूमि उपयोग के मामले में मांस उत्पादन के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करना चाहते हैं।

Plant Based Meat के नुकसान

  • बहुत ज्यादा सोडियम – आमतौर पर इसे अधिक स्वादिष्ट बनाने और इसके शेल्फ-लाइफ बढ़ाने के लिये इसमें ज्यादा सोडियम डाला जाता है।
    • बहुत अधिक सोडियम उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक सहित प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव पैदा कर सकता है।
  • अत्यधिक संसाधित भोजन – यह अत्यधिक संसाधित होता है और कम स्वस्थ सामग्री जैसे परिष्कृत नारियल तेल और संशोधित खाद्य स्टार्च से भरा होता है।
    • कुछ पौधे-आधारित विकल्प, उदाहरण के लिए, जो सोयाबीन से प्राप्त होते हैं, इतने पर्यावरण के अनुकूल नहीं होते हैं।
  • प्लांट-आधारित मीट एक स्वस्थ आहार में फिट हो सकता है, जब मॉडरेशन में सप्ताह में दो बार से ज्यादा नहीं खाया जाये।

भारत में Plant Based Meat का दायरा

  • APEDA के अनुसार, भारत का प्लांट प्रोटीन बाजार अगले पांच वर्षों में 400 से 450 मिलियन अमरीकी डालर तक पहुंचने की उम्मीद है।
  • भारत की लोकप्रिय उपभोक्ता सामान कंपनियां जैसे ITC और टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स इस उद्योग में निवेश कर रही हैं।
Exit mobile version